प्रदूषण पर निबंध हिंदी में | Essay on Pollution in Hindi

प्रदूषण पर निबंध लिखना लगभग हर कक्षा में छात्रों को एक असाइनमेंट या होमवर्क मिलतेही हे । छात्रों की मदद के लिए हमने इस पोस्ट में 500 शब्दों में प्रदूषण पर निबंध प्रदान किया है। छात्र अपना होमवर्क समय पर पूरा करने के लिए हिंदी में प्रदूषण पर इस लघु निबंध की मदद ले सकते हैं। प्रदूषण के महत्वपूर्ण बिंदुओं को लेकर कक्षा 1 से 12 तक के छात्र इस लघु निबंध की मदद ले सकते हैं।

सटीक शब्दों का उपयोग करने के बजाय, छात्रों को सुझाव दिया जाता है कि वे शब्द के उपयोग को संशोधित करें और प्रदूषण पर निबंध को और अधिक आकर्षक बनाने के लिए अधिक विचार शामिल करें। एक अच्छी तरह से लिखे गए प्रदूषण निबंध की मदद से छात्र अपनी अंतिम परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने में सक्षम होंगे।

 

प्रदूषण पर निबंध 500 शब्द में

प्रदूषण पर्यावरण में हानिकारक पदार्थों की उपस्थिति से है। इन हानिकारक पदार्थों को प्रदूषक कहा जाता है। विभिन्न प्रकार के प्रदूषण हैं जो वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण और बहुत कुछ हैं। बढ़ती आबादी के कारण प्रदूषण भी दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है। प्रदूषण के बढ़ते स्तर से लोगों को खतरनाक बीमारियां हो रही हैं। इसलिए, सभी को प्रदूषण, इसके प्रभावों और इसे प्रभावी ढंग से कैसे कम किया जाए, इसके बारे में पता होना चाहिए।

प्रदूषण किआ हे, संक्षेप में

स्वस्थ शरीर के लिए संतुलित आहार की तरह हमारे पर्यावरण को भी संतुलित अनुपात में हर पदार्थ की आवश्यकता होती है। यदि कोई पदार्थ अपनी सीमा से अधिक मात्रा में बढ़ जाता है तो वह पर्यावरण को प्रदूषित करता है जैसे कार्बन डाइऑक्साइड में वृद्धि, वातावरण में नाइट्रोजन ऑक्साइड वायु को प्रदूषित करता है और मनुष्यों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है।

प्रदूषण के प्रकार

प्रदूषण विभिन्न प्रकार के हैं जो पर्यावरण के विभिन्न वर्गों को प्रभावित करते हैं, जैसे

वायु प्रदुषण
जल प्रदूषण
ध्वनि प्रदूषण
मिट्टी का प्रदूषण

 

प्रदूषण के प्रभाव

प्रदूषण के कारण लोग और पर्यावरण अलग-अलग तरह से प्रभावित हो रहे हैं। यहाँ प्रदूषण के सबसे अधिक पहचाने जाने वाले बुरे प्रभावों में से कुछ हैं।

उच्च स्तर के ध्वनि प्रदूषण के संपर्क में आने वाले लोगों को सुनने में समस्या, उच्च रक्तचाप, नींद में खलल और अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है।
वायु प्रदूषण के उच्च स्तर के कारण ग्लोबल वार्मिंग बढ़ रही है जो ओजोन परत को और कम करेगी। साथ ही इंसानों में सांस लेने में तकलीफ बढ़ रही है।
पशु-पक्षियों की कई प्रजातियां विलुप्त होने के कगार पर हैं जैसे गौरैया जो लगभग विलुप्त हो चुकी हैं।
बढ़ा हुआ जल प्रदूषण पानी के भीतर जीवन को नष्ट कर रहा है।
फसलों में इस्तेमाल होने वाले कीटनाशकों से कैंसर और अन्य खतरनाक बीमारियों का खतरा बढ़ रहा है। लगातार बढ़ रहा मिट्टी का प्रदूषण मिट्टी को उपजाऊ बना रहा है।

 

प्रदूषण को कैसे कम करें?

प्रदूषण कम करने के लिए लोगों को हाथ मिलाना चाहिए। जिससे हमारी आने वाली पीढि़यां स्वस्थ पर्यावरण का अनुभव कर सकें। स्वस्थ रहने वाले पर्यावरण को संरक्षित करने के लिए लोगों को कुछ सावधानियां और उपाय करने चाहिए। नीचे दिए गए चरणों की जाँच करें जो प्रदूषकों को कम करने में मदद कर सकते हैं-

गैर-बायोडिग्रेडेबल चीजों का उपयोग कम करें- पर्यावरण में प्राकृतिक रूप से उत्पादित पदार्थों को कम करके खुद को पुनर्जीवित करने का गुण होता है। हालांकि, प्लास्टिक की थैलियों और बोतलों जैसी गैर-बायोडिग्रेडेबल चीजें पर्यावरण को प्रदूषित करती हैं।
ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाएं- वायु प्रदूषण को कम करने और प्रजातियों को बचाने के लिए ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाना बहुत जरूरी है। पेड़ पर्यावरण में अधिक ऑक्सीजन जोड़कर हवा को शुद्ध करने में मदद करते हैं।
रसायनों का कम उपयोग- प्रौद्योगिकी में प्रगति के साथ, खाद्य उत्पादों की उपज में सुधार के लिए कई रासायनिक पदार्थों का उपयोग किया जाता है। लोगों को कीटनाशकों का उपयोग किए बिना भोजन का उत्पादन करना चाहिए और
जनसंख्या कम करें- लगातार बढ़ती जनसंख्या प्रदूषण बढ़ने का प्रमुख कारण है। लोगों को नीति का पालन करना चाहिए हम दो, हमारे दो (हम दो हमारे करते हैं) जनसंख्या को नियंत्रण में रखने के लिए।
पुनर्चक्रण भी प्रदूषण को कम करने का एक बहुत ही प्रभावी और कारगर तरीका है। यह गैर-बायोडिग्रेडेबल उत्पादों के उपयोग को सीमित करने में मदद करता है।

Leave a Comment

best photo editing app | बेस्ट फोटो एडिटिंग ऐप PAN कार्ड से आधार लिंक कैसे करे | How to Link Aadhar with PAN आधार कार्ड से बनेगा PAN Card, जानिए कैसे | PAN with Aadhar जानिए लता मंगेशकर के बारे में | Know about Lata Mangeshkar गहरे मेहंदी रंग के लिए आसान उपाय | Easy Tips for dark mehndi color