छात्रों के लिए भारतीय किसान पर निबंध हिंदी में | Essay on Indian Farmer for Students in hindi

फ्रैमर भारतीय समाज की रीढ़ हैं। साथ ही, यह एक संवेदनशील विषय है जिसे सावधानी से संभालने की जरूरत है। भारत के लोग विभिन्न प्रकार के पेशे में लगे हुए हैं लेकिन भारत में कृषि या खेती मुख्य व्यवसाय है। इसके विपरीत, हालांकि वे अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं, फिर भी उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है जो न केवल उन्हें बल्कि अन्य लोगों को भी प्रभावित करती हैं। हालांकि किसान कभी-कभी पूरे देश का पेट भरते हैं, लेकिन वे अपने और अपने परिवार के लिए दो वक्त का भोजन भी नहीं जुटा पाते हैं।

किसानों का महत्व

1970 के दशक से पहले भारत खाद्यान्न उत्पादन में आत्मनिर्भर नहीं था और अन्य देशों से बड़ी मात्रा में खाद्यान्न का आयात करता था। लेकिन, जब हमारे आयातों ने हमें ब्लैकमेल करना शुरू किया तो प्रधान मंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने एक विकल्प खोजा और हमारे किसानों को प्रेरित किया। साथ ही उन्होंने “जय जवान जय किसान” का नारा दिया जो आज भी याद किया जाता है।

इसके बाद भारत में हरित क्रांति शुरू हुई और हम खाद्यान्न के मामले में आत्मनिर्भर हो गए। इसके अलावा, हमने अपने अधिशेष को दूसरे देशों में निर्यात करना शुरू कर दिया।

इसके अलावा, किसान देश की अर्थव्यवस्था में लगभग 17% का योगदान करते हैं। लेकिन फिर भी वे गरीबी में अपना जीवन व्यतीत करते हैं। साथ ही, वे स्व-नियोजित हैं और केवल खेती पर ही अपने मुख्य और एकमात्र व्यवसाय के रूप में निर्भर हैं।

किसानों की भूमिका

किसान अर्थव्यवस्था की प्रेरक शक्ति हैं। इसीलिए; हमारी आबादी का एक बड़ा हिस्सा प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से इसमें शामिल है। इसके अलावा, देश का प्रत्येक नागरिक उनके द्वारा उत्पादित कृषि उत्पादों पर निर्भर है।

 

किसानों की वर्तमान स्थिति

किसान पूरे देश का पेट भरते हैं लेकिन वे खुद दिन में 2 वक्त के भोजन के लिए संघर्ष करते हैं। इसके अलावा, किसान कर्ज और अपराधबोध के बोझ के कारण आत्महत्या कर रहे हैं कि वे अपना पेट नहीं भर सकते और अपने परिवारों को समृद्ध जीवन प्रदान कर सकते हैं। कई किसान आय का एक अधिक स्थिर स्रोत खोजने के लिए शहरों की ओर पलायन कर रहे हैं जो उनके परिवार को उचित खाद्य आपूर्ति प्रदान कर सके।

लेकिन, अगर किसानों की आत्महत्या और पलायन की स्थिति जारी रही तो भारत फिर से निर्यातक के बजाय खाद्य आयातक बन जाएगा। बड़े पैमाने पर चुनाव प्रचार और किसान की आत्महत्या के मुद्दे पर प्रकाश डाला गया है। लेकिन क्या ये प्रयास हमारे अन्नदाता (खाद्य प्रदाता) को बचाने के लिए पर्याप्त हैं जो हमें खुद से पूछना चाहिए?

इसके अलावा, समस्या की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि हर साल सैकड़ों और हजारों किसान आत्महत्या करते हैं। उनकी आत्महत्या का मुख्य कारण उन ऋणों का पुनर्भुगतान है जिन्हें वे विभिन्न कारणों से चुकाने में असमर्थ हैं। साथ ही सबसे ज्यादा किसान गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने को मजबूर हैं। इन सबसे ऊपर, उन्हें अपनी उपज को एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) से कम कीमत पर बेचने के लिए मजबूर होना पड़ता है।

अंत में, हमने आजादी के बाद से एक लंबा सफर तय किया है लेकिन फिर भी हमें बहुत कुछ करने की जरूरत है। साथ ही, गाँव और किसान और ग्रामीण अर्थव्यवस्था के लिए इतना कुछ करने के बाद भी वहाँ दुख में खर्च करते हैं। लेकिन, अगर हम इस मामले को गंभीरता से लेते हैं और किसानों की समस्याओं को हल करने का प्रयास करते हैं तो जल्द ही एक दिन ऐसा आएगा जब गांव शहरों की तरह समृद्ध हो जाएंगे।

 

कुछ सामान्य प्रश्न
Q.1 भारतीय किसानों की स्थिति पर कुछ प्रकाश डालें?
A.1 भारतीय किसानों की स्थिति बहुत खराब है। किसान की लगभग 80% आबादी में वे किसान शामिल हैं जिनके पास 1 हेक्टेयर या 1-2 हेक्टेयर से कम भूमि है। इसके अलावा, कृषि लगभग 50% को रोजगार प्रदान करती है लेकिन फिर भी सकल घरेलू उत्पाद में 15% का योगदान करती है।

Q.2 छोटे किसानों को परिभाषित करें?
A.2 छोटे किसान भारत की कृषि के लिए महत्वपूर्ण हैं। ये वे किसान हैं जिनके पास 2 या 2 हेक्टेयर से कम जमीन है। इसके अलावा, वे देश के कुल किसानों का लगभग 70-80% हिस्सा हैं।

Leave a Comment

best photo editing app | बेस्ट फोटो एडिटिंग ऐप PAN कार्ड से आधार लिंक कैसे करे | How to Link Aadhar with PAN आधार कार्ड से बनेगा PAN Card, जानिए कैसे | PAN with Aadhar जानिए लता मंगेशकर के बारे में | Know about Lata Mangeshkar गहरे मेहंदी रंग के लिए आसान उपाय | Easy Tips for dark mehndi color